Breaking News
Home / India / बेटा लगाएगा शतक, यह सपना लेकर रातभर जागती रही मां, भावुक हुए हनुमा विहारी

बेटा लगाएगा शतक, यह सपना लेकर रातभर जागती रही मां, भावुक हुए हनुमा विहारी

अगर मेहनत लगातार जारी है तो फिर सफलता का एक दिन मिलना तय है। यही बात दिमाग में रखते हुए आज भारतीय क्रिकेट टीम के आलराउंडर हनुमा विहारी डटे रहे और आज उन्होंने अपने परिवार का सपना साकार कर क्रिकेट जगत में पहचान बनाई। विहारी ने विंडीज के खिलाफ दूसरे टेस्ट में शतकीय पारी खेल अपनी मां विजयीलक्ष्मी का सपना पूरा कर दिया है। उनके शतक को देखने के लिए उनकी मां भी रातभर जागती रहीं। बेटे को आगे बढ़ता देख उनकी मां बेहद खुश हैं।

 

 

शतक देखने के लिए जागती रही मां

विहारी पहले टेस्ट में शतक लगाने से महज 7 रन से चूक गए थे, लेकिन दूसरे टेस्ट की पहली पारी में उन्होंने 111 रनों की पारी खेल डाली। उन्होंने जब शतक पूरा किया तो उनकी मां टीवी देख रही थी 53 वर्षीय विजयीलक्ष्मी का कहना है कि जब पिछले मैच में जब बेटा शतक से चूक गया था, वो इसलिए क्योंकि वो मैच नहीं देख रही थी। विहारी की मां ने कहा, “पहले टेस्ट के दाैरा मैं अपने बेटे की पूरी पारी नहीं देख पाई थी। यही कारण है कि वो शतस से चूक गया था।” उन्होंने कहा, “लेकिन इस बार मैं बेटे को शतक लगाता देखना चाहती थी जिसके लिए वो पूरी रात जागती रहीं।” बता दें कि विजयलक्ष्मी को जब पता चला कि उनका बेटा शतक के करीब हा तो वह टीवी देखने बैठ गईं।

भावुक हुए हनुमा विहारी

उन्होंने माना कि वह पहले दिन का खेल समाप्त होने के बाद ठीक से नींद नहीं ले पाए थे। विहारी ने कहा, “मैं कल 42 रन पर बल्लेबाजी कर रहा था, तो मुझे रात में बहुत अच्छी नींद नहीं आई। मैं एक बड़ा स्कोर बनाना चाह रहा था और मुझे खुशी है कि मैंने उस 100 के आकड़े को पार कर लिया। मैं उन परिस्थितियों में शतक जड़कर बहुत खुश हूं।” बता दें कि हनुमा विहारी भारतीय टेस्ट क्रिकेट इतिहास के 85वें बल्लेबाज बने, जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में शतक जड़ा है। इस मामले में भारत से आगे ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड हैं। टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड की तरफ से 168 बल्लेबाज जबकि ऑस्ट्रेलिया टीम की तरफ से 137 बल्लेबाज ये कमाल कर चुके हैं।

 

रातभर नहीं आई नींद

भावुक हुए हनुमा विहारी शतकीय पारी खेलने के बाद विहारी भावुक हो उठे। विहारी ने कहा, ”जब मेरी उम्र 12 साल थी तब मेरे पिता का निधन हो गया था। मैंने तभी फैसला कर लिया था कि जब मैं इंटरनेशनल क्रिकेट खेलूंगा और शतक लगाऊंगा तो उन्हें ही अपना पहला शतक समर्पित करूंगा।” विहारी ने पिता को याद करते हुए कहा कि आज मेरे लिए बहुत भावुक दिन है और मुझे उम्मीद है कि वो जहां भी होंगे उन्हें मुझपर गर्व होगा।

About aaztaknewslive

Aaztaknewslive

Check Also

यूपी में होने वाले उपचुनाव को लेकर Aimim ने किया बड़ा ऐलान,कार्यकर्ताओं में भरा जोश,फैसले का किया स्वागत

यूपी में होने वाले उपचुनाव को लेकर Aimim ने किया बड़ा ऐलान,कार्यकर्ताओं में भरा जोश,फैसले …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *